अब राष्ट्रपति की नियुक्ति जनता द्वारा….? मुंबई हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल

58
245

अब राष्ट्रपति की नियुक्ति जनता द्वारा….?
मुंबई हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल

अब राष्ट्रपति की नियुक्ति जनता द्वारा….? मुंबई हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल

मुंबई : राष्ट्रपति नियुक्ति को लेकर एडवोकेट राजकुमार शर्मा ने आर्टिकल 58 को लेकर आवाहन देते हुए मुंबई हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की है।
उनका कहना है कि भारत में अमेरिका की तर्ज पर चर्चा द्वारा ,मतदान द्वारा ,जनता द्वारा राष्ट्रपति की नियुक्ति होनी चाहिए। राष्ट्रपति किसी राजकीय पक्ष से संबंधित होता है! इसी कारण आम जनता के बारे में निष्पक्ष होकर विचार नहीं किया जाता ।वह किसी राजकीय पक्ष के विचारों से प्रेरित होता है! इसी कारण राष्ट्रपति अपने विवेक एवं बुद्धि का प्रयोग या तो नहीं कर पाते या करने नहीं दिया जाता है! इसीलिए राष्ट्रपति के पद पर किसी न्यायालयीन कामकाज व्यक्ति को ही होना चाहिए तभी सही मायने में कानून-व्यवस्था टिकी रहेगी! इसी कारण भारत देश का राष्ट्रपति किसी भी पक्ष का नहीं होना चाहिए और इसके पद का चुनाव जनता द्वारा किया जाना चाहिए!