भिवंडी महानगर पालिका की न्यायिक जांच की मांग हुई तेज़ .. भिवंडी में होगा ह्यूमन चैन आंदोलन ..

9
352

भिवंडी महानगर पालिका की न्यायिक जांच की मांग हुई तेज़ ..
भिवंडी में होगा ह्यूमन चैन आंदोलन ..

भिवंडी महानगर पालिका की न्यायिक जांच की मांग हुई तेज़ ..
भिवंडी में होगा ह्यूमन चैन आंदोलन ..

भिवंडी मांगे जवाब नामक जनआंदोलन है जिसमे पढ़े लिखे उच्च शिक्षित वकील ,सीए एवं ऐसे कई सामाजिक संस्था शामिल है ।जिसे भिवंडी वासियों ने मिलकर साथ भी दिया है और सराहा भी ।
भिवंडी मांगे जवाब का मुख्य उद्देश्य है कि पिछले 10 सालों से भिवंडी के नागरिक अपने मूलभूत सुविधाओं के लिए संघर्ष करते आ रहे हैं । इन 10 सालों की सीएजी रिपोर्ट हर भिवंडी वासियों के मन में है । इस सीएजी ऑडिट रिपोर्ट के लिए कई भिवंडीकरो ने राज्य एवं केंद्र सरकार को पत्र व्यवहार द्वारा सूचित किया । मगर अभी तक कहीं से कोई सुनवाई नहीं हो पा रही है भिवंडी वासियों ने ह्यूमन चैन के रूप में कई आंदोलन भी खड़े किए ।

मगर इस बार सभी भिवंडीकरो ने लोकसभा के 2019 के इलेक्शन में मतदान का पूर्ण रूप से बहिष्कार करने का निर्णय लिया है ।जब तक सरकार भिवंडी महानगरपालिका की सीएजी ऑडिट नहीं करती तब तक सभी भिवंडीकरने मिलकर मतदान का बहिष्कार करने का मन बनाया हुआ है ।
इसके लिए आने वाली 26 जनवरी 2019 को सुबह 9:00 से दोपहर 12:00 बजे तक भिवंडी महानगरपालिका के सामने ह्यूमन चैन का आयोजन किया है । भिवंडी मांगे जवाब की टीम गोविंद शर्मा, अनूप कुमार शुक्ला, डॉक्टर इमरान खान, सतीश लॉयरे, डॉक्टर इंतखाफ़ , संवाद फाउंडेशन ,मानवहित सेवा संस्था मूमेंट फॉर पीस एंड जस्टिस एवं मानव अधिकार संगठनों ने मिलकर उपविभाग अधिकारी मोहन नदलकर को एक ज्ञापन सौंपकर मतदान का बहिष्कार करने का ऐलान किया है ।