ना तबादला, ना सस्पेंड , अब फैसला ऑन द स्पॉट

0

ना तबादला, ना सस्पेंड , अब फैसला ऑन द स्पॉट

महाराष्ट्र पुलिस संचालक का महत्वपूर्ण निर्णय

पुलिस प्रशासनिक अधिकारी अगर कोई काम के बदले में अगर रिश्वत लेने की बात सामने आती है तो उस अधिकारी का निलंबन ना करते हुए सीधे नौकरी से निकाला जाएगा। यह निर्णय से पुलिस विभाग की धूमिल छवि को फिर से अच्छा करने का प्रयास जारी है। यह महत्वपूर्ण निर्णय महाराष्ट्र राज्य के पुलिस संचालक ने लिया है। इस निर्णय से सभी पुलिस अधिकारियों के होश उड़ गए हैं।
रिश्वत लेते वक्त गिरफ्तार होने के बाद उस अधिकारी को निलंबित किया जाता है और  6 महीने पश्चात वहीं पुलिस अधिकारी पुनः अपने विभाग में जॉइन होता है। मगर अब वह अधिकारी ऐसा अब नहीं कर सकेगा।

किन किन कारणों के लिए ली जाती है रिश्वत

1)आरोपी के खिलाफ दोषरोपपत्र कोर्ट में दाखिल करने पर

2) प्रतिबंधक कार्रवाई न करना

3) गिरफ्तार ना करना

4) M केस जांच फिरयादी की तरफ से करना

5) कंप्लेनेंट के खिलाफ कानूनी कार्रवाई ना करना

6) मुद्दे माल वापस देना

7) कोर्ट द्वारा दिए गए समन्स ना देना

8) गंभीर गुनाह में गिरफ्तारी न करना

9) गंभीर कलम को कम करने के लिए

 

 

स्रोत :लोकसत्ता 27 मई 2019